Eat Green Eat Organic

कोरोना को कैसे पहचाने – How to Identify CORONA COVID-19.

1

कोरोना यानी कोविड-19 – COVID-19 के बढ़ते प्रकोप के साथ-साथ लोगों की चिंताएं भी बढ़ती जा रही हैं, लेकिन वास्तव में यह रोग है क्या?

जितनी तेजी से कोरोना फ़ैल रहा है और दुनिया के सारे देश जिस तरह अपने आपको समेटकर इस संक्रमण से बचने का प्रयास कर रहे है, उससे कही ज्यादा तेजी से इस रोग से जुडी गलत ख़बरें फ़ैल रहीं है.

कोरोना हेल्पलाइन नंबर
कोरोना हेल्पलाइन नंबर

कही कहा जा रहा है की लहसुन खाने से इस संक्रमण से बचा जा सकता है, तो कही सुनने में आ रहा है की फ्लू की वैक्सीन कोरोना से बचा सकती है. ऐसी और भी कई गलत खबरें है जिनकी हकीकत जानना आपके लिए जरुरी है.

गलत फहमी – निमोनिया के टीके कोरोना वायरस से सुरक्षा देते हैं?
सच
– निमोनिया के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले न्यूमोकोकल और हीमोफिलस इन्फ्लुएंज़ा के टीके कोरोना वायरस से सुरक्षा नहीं देंगे। अभी तक इस वायरस को ख़त्म करने के लिए कोई दवा या टीका मौजूद नहीं है।

गलत फहमी – एंटीबायोटिक्स कोरोना को रोकने और उसके इलाज में कारगर हैं?
सच
– बिल्कुल नहीं, एंटीबायोटिक्स बैक्टीरिया के खिलाफ़ काम करते हैं लेकिन वायरस पर नहीं। यह रोग एक प्रकार का वायरस है इसलिए, रोकथाम या चिकित्सा के साधन के रूप में एंटीबायोटिक्स असरकारक नहीं होंगी।

गलत फहमी – नियमित सेलाइन के साथ नाक को साफ़ करने से कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है?
सच
– ऐसा कोई सबूत नहीं है। पर नियमित रूप से सेलाइन से नाक को साफ़ करने से मामूली वायरस से नहीं बल्कि आम सर्दी से जल्दी ठीक होने में मदद मिल सकती है।

गलत फहमी – क्या कोई उपचार या आयुर्वेद कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकते हैं?
सच – जब तक कोई साइंटिफिक स्टडी नहीं आती है, तब तक ऐसी बातों पर विश्वास करना सही नहीं है। इतना जरूर करें कि आप अपने इम्यून सिस्टम को बेहतर करने के लिए एक्सरसाइज करें। बैलेंस डाइट लें। सफाई का ध्यान रखें। इस बीमारी के खिलाफ अभी तक तय कोई इलाज नहीं है।

गलत फहमी – कोरोना वायरस पालतू जानवरों द्वारा फैलता है।
सच
– नहीं, कोरोना वायरस पालतू जानवरों से नहीं फैलता बल्कि आपका साफ़ यानी हाइजीनिक होना ज़रूरी है। जानवरों के साथ खेलने के बाद हाथों को साबुन से ज़रूर धोएं। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक़ जानवरों के सीधे संपर्क में आने से बचें।

गलत फहमी – ये वायरस मच्छर के काटने से भी फैल सकता है?
सच
– कोरोना वायरस एक श्वसन वायरस है। कोई संक्रमित व्यक्ति जब खांसता है या छींकता है, या लार की बूंदों के माध्यम से या नाक साफ़ करता है, यह उससेे फैलता है। मच्छर के काटने से ये वायरस फैल रहा है ये कहना मुश्किल है।

गलत फहमी – शरीर पर ल्कोहल या क्लोरीन के छिड़काव से वायरस मारा जा सकता है?
सच
– नहीं। आपके शरीर पर अल्कोहल या क्लोरीन का छिड़काव करने से शरीर में पहले से मौजूद वायरस नहीं फैलेंगे। ऐसे पदार्थों का छिड़काव कपड़े या श्लेष्मा झिल्ली यानी आंख, मुंह के लिए हानिकारक हो सकता है। ध्यान रहे कि अल्कोहल और क्लोरीन दोनों ही कीटाणुरहित सतहों के लिए उपयोगी हो सकते हैं, लेकिन उन्हें उपयुक्त सिफारिशों के तहत उपयोग करने की आवश्यकता होती है।

गलत फहमी – क्या गोमूत्र या गोबर कोरोना वायरस को रोक सकता है?
सच
… हालांकि कोरोना वायरस और गो प्रजातियों के बीच कोई सम्बंध नहीं है। कोरोना वायरस जानवरों और मनुष्यों दोनों को प्रभावित कर सकता है और विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दोनों के मल से भी यह फैल सकता है।

गलत फहमी – लहसुन खाने से दूर होगा कोरोना वायरस?
सच
– ये बात पूरी तरह से ग़लत है। लहसुन में एंटीमाइक्रोबियल गुण ज़रूर पाए जाते हैं लेकिन इस बात का कोई संकेत या सबूत नहीं मिले हैं जो ये साबित कर सके कि लहसुन से कोरोना वायरस का इलाज हो सकता है।

गलत फहमी – तापमान बढ़ने पर वायरस कम हो जाएगा?
सच
– इस बात का अभी कोई सबूत नहीं है। हालांकि अधिक तापमान से वायरस का एक से दूसरे में फैलने का ख़तरा ज़रूर कम हो जाता है। पर ये कहना कि गर्मी बढ़ने से कोरोना वायरस ख़त्म हो जाएगा, अभी तक ऐसा कोई शोध सामने नहीं आया है।

गलत फहमी – चिकन, मछली, मीट से खतरा बढ़ जाता है?
सच – यह सांस से जुड़ा वायरस है और मरीज के संपर्क में आने से फैलता है। इसके चिकन, मछली, मीट से फैलने के कोई सबूत नहीं मिले हैं।

वायरस का नाम “कोरोना” है और इससे होने वाला संक्रमण रोग COVID-19 है.

COVID मतलब ‘कोरोना वायरस डिसीज’ – CORONA VIRUS DISEASE है और ’19’ इसलिए क्योंकि इसका पहला मामला ‘2019’ में सामने आया। दरअसल कोरोना सिर्फ एक वायरस नहीं बल्कि वायरस का एक समूह या प्रजाति है। वायरस और उसके कारण फैलने वाले रोग अलग-अलग होते है जैसे – एड्स रोग फ़ैलाने वाले वायरस का नाम ‘एचआईवी’ – HIV है।

कोरोना की जाँच कब करवाएं
कोरोना की जाँच कब करवाएं

बुखार, गले में दर्द या जुकाम है, तो ये जरुरी नही कि यह कोरोना संक्रमण ही है। ये मौसमी ज़ुकाम या फ्लू भी हो सकता है। कोरोना के लक्षण लगभग आम सर्दी-ज़ुकाम जैसे ही हैं लेकिन इनके बीच अंतर भी है। यह आपको भी समझना है।

ये अचानक होने वाला संक्रमण है। बुखार, सूखी खांसी, मांसपेशियों में दर्द और थकान इसके मुख्य लक्षण हैं। इसमें संक्रमित व्यक्ति को सांस लेने में भी दिक़्क़त होती है।

लक्षणों का पता चलना – इसके लक्षणों का पता 5 से 7 दिनों में चलता है।

इलाज – इसके लिए कोई वैक्सीन या एंटीबायोटिक दवा नहीं है।

CORONA - कोरोना से बचने के लिए यह है हाथ धोने का सही तरीका
CORONA – कोरोना से बचने के लिए यह है हाथ धोने का सही तरीका
कैसे पहचाने कोरोना है या कोई सामान्य फ्लू
कैसे पहचाने कोरोना- CORONA है या कोई सामान्य फ्लू
  • हाथ साबुन या हैंडवॉश से साफ करें, यह प्रक्रिया बार-बार दोहराएं
  • खांसते और छींकते समय अपनी नाक और मुंह को टिश्यू या रुमाल से ढकें
  • जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों, उनके करीब नहीं जाएं, एक हाथ की दूरी बनाए रखें
  • भीड़भाड़ वाले इलाकों में न जाएं
  • फ्लू से संक्रमित हों तो घर पर ही आराम करें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी और तरल पदार्थ पीएं और पोषक आहार खाएं
  • संक्रमण का संदेह हो तो डॉक्टर से जरूर सलाह लें .
  • गंदे हाथों से आंख, नाक या मुंह न छुएं
  • किसी को मिलने के दौरान गले न लगें और न ही हाथ मिलाएं
  • सार्वजनिक जगहों पर थूकें नहीं
  • बिना डॉक्टर की सलाह के दवा ना लें.
  • इस्तेमाल हुए नैपकिन, टिश्यू पेपर खुले में न फेंकें
  • वायरस से दूषित सतहों को ना छुएं
  • सार्वजनिक जगहों पर स्मोकिंग न करें
  • अनावश्यक एच1एन1 की जांच नहीं कराएं।
कोरोना से बचने के लिए क्या करें और क्या न करें - COVID-19
कोरोना से बचने के लिए क्या करें और क्या न करें – COVID-19
कोरोना से सुरक्षा के लिए जरूरी कदम
कोरोना से सुरक्षा के लिए जरूरी कदम
मास्क कब पहने - नोवल कोरोनावायरस - COVID-19
मास्क कब पहने – नोवल कोरोनावायरस – COVID-19

भारत सरकार ने कोरोना के लिए अपने हेल्पलाइन नंबर लांच किये है साथ ही भारत – India के सभी राज्यों ने भी कोरोना से संबंधित जानकारी लेने या मेडिकल सहायता के लिए भी सभी राज्यों के लिए अलग-अलग COVID-19 Helpline Numbers लांच किये है।

कोरोना के लिए सभी राज्यों के हेल्पलाइन नंबर
कोरोना के लिए सभी राज्यों के हेल्पलाइन नंबर
1 Comment
  1. Sonit says

    Very good information. Thanks for sharing.

Leave A Reply

Your email address will not be published.